Invitation (Join Us)

INVITATIONS

*********
Invitation
 
SADED’s ‘Dharma Jigyasu Manch’ is organising a meeting on His Holiness Pope Francis’s encyclical letter Laudato Si on ‘Care for Our Common Home’.
Discussion will be initiated by Shri Arif Mohammad Khan
Date: 30th January 2018
Time: 10:00 AM – 1:00 PM
Venue: N.D. Tiwari Bhawan, Deen Dayal Upadhyaya Marg, New Delhi
 
Please block date and time. We hope you will join for this discussion on how religions view the relationship of human societies and nature.
 
Sincerely,
Ravindra Kumar Pathak
Vijay Pratap

*********

जीवन का अर्थ और अर्थमय जीवन

Link

हरित स्वराज संवाद की ओर से इस वर्ष भी डॉ. उषा पारिख की स्मृति को समर्पित बैठक आयोजित की जा रही है| इस बार डॉ. असीम श्रीवास्तव का व्याख्यान होगा|इसकी तफसील हम नीचे दे रहे हैं|

तिथि : 4 जनवरी 2018

स्थान : लेक्चर रूम नं-1, अनेक्सी, इंडिया इंटरनेशनल सेंटर (आई.आई.सी.),

नई दिल्ली

कार्यक्रम

सायं 5:30 : चाय

सायं 6:00 :

 व्याख्यान : मेरी विचार यात्रा – संतुलन की तलाश और प्राकृतिक स्वराज

वक्ता : डॉ. असीम श्रीवास्तव

अध्यक्षता : प्रो. सतीश जैन

टिप्पणी के लिए विशेष आग्रह : सोपान जोशी, रितु प्रिया

खुली चर्चा

अध्यक्ष द्वारा समापन

भवदीय,

रजनीकान्त मुदगल, विजय लक्ष्मी ढौंडियाल, गौरी शंकर

विकास अरोड़ा, पवन कुमार, छोटन दास,रमेश सिंह

Brief of Aseem Srivastava’s Lecture (4 Jan. 2018)

*********

पोप का सन्देश और धर्म का मर्म : एक चर्चा

अपने देश में तो कई धर्म के लोग एक साथ रहते ही हैं आज यातायात और संवाद के माध्यमों ने दूर देश के लोगों के बीच जानकारी और यात्रा की दूरी कम कर दी है | इसके बावजूद करीबी, आत्मीय और सदाशयतापूर्ण बातचीत कम होती जा रही हैं | धर्म जो एक गंभीर क्षेत्र है, जिसके अन्तर्गत अनेक विषय सम्मिलित हो जाते हैं, उन पर तो ऐसे संवाद की बहुत जरुरत है |
सैडेड से जुडे लोगों ने ऐसी चर्चा की आवश्यकता महसूस की और सोचा कि विभिन्न धर्मों-सम्प्रदायों के लोगों से संवाद किया जाए | इस प्रकार की बातचीत धर्म जिज्ञासु मंच में कई वर्षों से जारी है | उज्जैन के पिछले कुम्भ के दौरान और बाढ़ में भी प्रयास जारी रहा |
साल 2015 में परम पावन पोप ने ईश्वर प्रशंसा में जो सन्देश दुनिया को दिया जिसमें वैश्विक परिप्रेक्ष में मनुष्य, प्रकृति तथा समाज के अंतर्संबंधों तथा कई तात्विक बातों पर नए ढंग से प्रकाश डाला है |
हमने उस सन्देश से भी सारांश निकाल लेने और अन्य धार्मिक-सामाजिक क्षेत्र के नागरिक मुद्दों को चिन्हित करने का प्रयास किया है, जिससे आगे बात जारी रखी जाए |  हम उसे आपके समक्ष रखना चाहते हैं | साथ ही इस विमर्श में आपके योगदान की आशा भी रखते हैं |
इस उद्देश्य से दिनाँक  29 /12/ 2017 को  4.30 PM बजे से एक चर्चा GPF पर आयोजित की गयी है |
 
आप सादर आमंत्रित हैं |
 
निवेदक
रवीन्द्र कुमार पाठक
धर्म जिज्ञासु मंच
 
सैडेड, नई दिल्ली

*****

आमंत्रण- 16-17 दिसम्बर 2017,गाँधी शांति प्रतिष्ठान

Link

इस उन्नीस दिसम्बर को अनुपम मिश्र को हमसे बिछड़े एक पूरा बरस हो जाएगाउनका अंतिम एकल व्याख्यान 4 जनवरी 2016 को ‘जीवन का अर्थअर्थमय जीवन‘ हुआ थाहालांकि यह व्याख्यान  हरित स्वराज संवाद (सैडेड) के मंच से हुआ था लेकिन यह पूरे समाज को संबोधित करते हुए दिया गया थाअनुपम जी की भाषा और चिंतन किसी भी विचारधारा या संस्था के घेरे में बंधी नहीं होती थीइसी वजह से यह व्याख्यान आज भी प्रतिष्ठित राजनैतिकसामाजिक एवम् साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में छप रहा है|

अनुपम जी की पैनी दृष्टि समाज और समय के अंतर्संबंधों को परत दर परत सामान्य जन के लिए उजागर करती जाती थीइसी कारण विभिन्न पृष्ठभूमि के लोग उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुएसंचार माध्यमों ने उन पर अनेकों अनेक लेख छापे व टी.वी. चैनलों ने विशेष स्थान दियाउनके जाने के तत्काल बाद दिल्ली में ही तीन बड़ी सार्वजनिक सभाएं हुईंलेकिन फिर भी बहुतों के मन में टीस रह गई कि हमें कुछ कह्ना था|

इस टीस की सृजनात्मक भूमिका है कि यह हमारे समय और अनुपम जी के बारे में हमें सोचने-खोजने को मजबूर करती है| आइयेखुले दिलोदिमाग से इस सोच को 16-17 दिसम्बर 2017 को गाँधी शांति प्रतिष्ठान में मिलकर साझा करेंमित्रों से अनौपचारिक चर्चा द्वारा बना कार्यक्रम निम्नलिखित है:

               स्थान : गाँधी शांति प्रतिष्ठान (जी.पी.एफ.)

                221-223, दीनदयाल उपाध्याय मार्गनई दिल्ली

                                         तिथि : 16-17 दिसम्बर 2017

कार्यक्रम

16 दिसंबर, 2017

प्रातः 10:30           चाय

11 से 4.00            सत्र -1

 हमारे जीवन में अनुपम का अर्थ और उन के काम की निरंतरता

अध्यक्षता :            श्री राम चन्द्र राही

संचालन :            श्री राकेश दीवान

वक्तागण :            सहकर्मी एवं  मित्र परिवार

से 2.00              भोजन

से 4.00             सत्र-जारी        

अप. 4.00             चाय

4.30 to 6.00       सत्र-2      जीवन का अर्थ और अर्थमय जीवन

अध्यक्षता:            श्री कुमार प्रशांत

 वक्ता:                श्री उदयन वाजपेयी

 खुली चर्चा

 सांय 6.00          चाय

______________

 17 दिसंबर, 2017

प्रातः 11 से 1.00       सत्र –3      समाज के सहयोगी कार्यकर्ता की भूमिका

 अध्यक्षता:        सुश्री रजनी बक्शी

 वक्ता:             श्री मोहन  हीराबाई हीरालाल

अप.1.00           भोजन

 _______________________________________________

अनुपम मित्र परिवार

राकेश दीवान: 09424467604

विजय प्रताप: 09910770263

अशोक कुमार: 09818323936

********

saded meeting on 6 september 2017

******

logo SADED New, July 2017

 

Advertisements